पीलिया रोग कैसे होता है और आयुर्वेदिक उपाय jaundice disease in hindi

इस दुनिया में जितनी खूबसूरत वस्तुएं हैं उसी प्रकार दुनिया में बीमारियां भी बहुत हैं आज मैं पीलिया रोग कैसे होता है और आयुर्वेदिक उपाय बताऊंगा

जिससे आपको इस रोग से मुक्ति पाने में आसानी होगी इसरो के लक्षण यह है कि यह रोग होने पर व्यक्ति के शरीर मैं अंदरुनी खुजली आने लग जाती है

खुजली इतनी आती है कि वह मरीज खुद की चमड़ी भी उधेड़ सकता है क्योंकि यह रोग खून का पानी बनाता है और मरीज का पूरा शरीर पीला पड़ जाता है आंखें भी पीली हो जाती है यह रोग के दो प्रकार हैं काला पीलिया और पीला पीलिया है

पीलिया रोग कैसे होता है
पीलिया रोग कैसे होता है

पीलिया रोग कैसे होता है आयुर्वेदिक उपाय

  मूली के पत्तों का रस सौ ग्राम ले और उसमें 20 ग्राम शक्कर मिलाएं अब आपकी यह पीलिया रोग की दवाई बनकर तैयार हो गई है इसे नियमित रूप से 15 से 20 दिन तक लगातार लेने हैं   पीलिया रोग में बहुत फायदा होगा और यह नुस्खा अपनाते टाइम आपको एक बात हमेशा ख्याल रखनी है कि आप खटाई से परहेज रखेंगे यह नुस्खा बहुत ही आसान है

  चने के दाने के बराबर फिटकरी ले अब उसे आग पर रखें उसे तब तक आग पर रखना है जब तक कि वह फुल ना जाए और उसके बाद उसे आग से उतार कर बारीक पीस लें   वह बिल्कुल बारीक हो जाए तो आपको एक बड़ा पका हुआ केला लेना है

अब उसे बिल्कुल बीचो-बीच काटकर दो हिस्से कर ले अब उन दोनों ही हिस्सों पर उस फिटकरी के चूर्ण को बुर्का ले या लगा ले अब उन दोनों हिस्सों को मिला दे   अब उसके लिए को रोजाना सुबह उठते ही खाली पेट खा ले इस प्रकार आपको नियमित रूप से 7 दिन तक लगातार प्रयोग करना है

इसी प्रकार एक केला रोजाना खाने से पीलिया रोग बिल्कुल ठीक हो जाता है jaundice disease in hindi   पोस्ट के बारे में

  इस पोस्ट में हमने आपको पीलिया रोग कैसे होता है के बारे में आयुर्वेदिक नुस्खे बताए हैं इन नुस्खों का प्रयोग करने से आप पीलिया रोग जैसी बीमारी से मुक्ति पा सकते हैं   अगर आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा तो आप हमें कमेंट में आपकी राय दें और इसे अपने प्रिय जनों को शेयर भी करें राम जी राम।

Leave a Comment

%d bloggers like this: